नहीं जानना, उतनी शर्म की बात नहीं, जितना कि, उसे जानने की कोशिश न करना.

One thought on “नहीं जानना, उतनी शर्म की बात नहीं, जितना कि, उसे जानने की कोशिश न करना.